पूरे भारत मे मना योग दिवस, योग शिक्षकों ने दिये निरोगी रहने के टिप्स।

पूरे भारत मे मना योग दिवस, योग शिक्षकों ने दिये निरोगी रहने के टिप्स।

रिपोर्ट:- श्रीगोपाल सिसोदिया

21 जून की तारीख पूरे विश्व में ‘अंतर राष्ट्रीय योग दिवस’ के नाम है। योग हमेशा से भारत की प्राचीन परंपरा का अमूल्य हिस्सा रहा है। योग करने से शारीरिक व मानसिक अनेक फायदे होते हैं। यह हम पंचतत्वों से बने मनुष्य को प्रकृति से जोड़ता है। ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ पर 21 जून को योग विद्वानों के द्वारा चैतन्य विहार वृन्दावन के निवासियों ने योग कर योग महोत्सव मनाया।

जिसमे सुधीर शुक्ला ने बताया योग के कई आसन ऐसे भी हैं, जो किसी परेशानीग्रस्त हिस्से को ठीक कर देते हैं, लेकिन ऐसे आसन आप योग विशेषज्ञ की सलाह व देखरेख में ही करें।

कार्यक्रम सयोजक प्रदीप बनर्जी ने बताया कि योग आपको तन के अलावा मन की भी शांति देता है। योग के कई आसन व ध्यान आपके विचारों को नियंत्रित कर संतुलित कर देते हैं जिससे मन शांत रहने लगता है।

भाजपा की प्रदेश महामंत्री सुषमा अग्रवाल ने योग के महत्त्व बताया कि सफल जीवन जीने के लिए शरीर को सकारात्मक ऊर्जा और मानसिक शक्ति की जरूरत होती है, जो हमें योग से ही मिलती है।

धर्मेंद्र गौतम के अनुसार छोटे बच्चे से लेकर बुजुर्ग व्यक्ति तक कोई भी योग के आसन कर सकता है।

योग शिविर में शारदा जी, मुदिता शर्मा, स्नेहा, गुंजन शर्मा, दया शर्मा, आशा जोशी, शोभा, विनोद शर्मा, डॉ अनुरूद्ध, संत राजेन्द्र जी, विनोद जोशी, गोविंद वल्लभ, श्याम अग्रवाल, आनंद ज ओम प्रकाश गौतम, हरिमोहन शर्मा, हरेकृष्ण शर्मा, पी के शर्मा, डॉ मारुति गौतम श्रीकांत, गौरांग शुक्ला आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *